Friday, March 23, 2018

Top 8 Bachcho Ki Hindi Pahaliyan

1.हमेशा नाक के नीचे  रहती
रहती हूँ मुख के उपर |
स्त्री से मैं दूर रहूँ ,
मालिक मेरा सिर्फ नर |


2.लैला की ऊँगली हूँ
मंजनू की पसली यार |
नमक तनिक सा लगा दो ,
खाने को तैयार  |

3.हिले -डुलेगा नही  वो कभी
नही कुछ भी लेगा |
छोटी पकड़ कर  मरोड़ो ,
शीघ्र घडा भर जायेगा |


4.मजेदार से मोती है
बेलो पे लटके |
नही मिले जिनको
वो कहते है खट्टे  |


5.लाल हमारी घघरी
सभी है हम सब को खावे |
हम सब को है रुलाई
हमे न कोई रुलावे |


6.औरो  के साथ चलूं  हमेशा
मंजिल तक पहुंचाऊ |
वैसे पड़ी रहूँ एक कोने मे
मैं कही नही जाऊ |

7.बाकी -बांबी है जल -भरी
उपर उसके जलती है आग |
जब भी उसे बजाओ बांसुरी
निकल उठे है काला नाग

8.दो  आखर का नाम है मेरा
किन्तु पावं है चार \
उन पावो  से चल नही पाता
 पूछ पहेली हो तैयार |







1मूंछ










2.ककड़ी












3.नल














4.अंगूर










5.लाल- मिर्च








6.चप्पले













7.हुक्का













8.ख़त